Sunday, March 8, 2015

..… .नारी ...

जब भी चाहा
असत से विरक्त होना

विलुप्तियों के अन्धकार में
छुप जाना
तुम मुस्काती
गुदगुदाती हो मुझे
और मैं हंस

पड़ता हूँ खिलखिलाते
……………………………………………….

जब भी चाहा
उदासियों का बादल बन

उड़ जाना
तुन्हारे आँचल की उष्णता
नेह की बूँद बना देती है मुझे
और में
बरस पड़ता हूँ फूट फूट कर
……………………………………………………..

जब भी चाहा
दुखों की बर्फ बन कर
किसी पोखर में जम जाना
तुम सूर्य रश्मि बन जाती हो
और मैं
नीर क्षीर बन जाता हूँ
……………………………………………………………..

जब भी चाहा थक कर
शाख से पीत पल्लव बन
गिरकर माटी में मिल जाना |
तुम हरित श्रृंगार बना देती हो मुझे
और मैं
वसंत बन
धरा पर सज जाता हूँ
………………………………………………………

प्रिये

मै तो एक निरा ठूंठ
तुम महा सिन्धु
सृष्टी चक्र की पावस
ममतामयी नारी .......
असंख्यों स्मृतियाँ हैं
मेरी और तुम्हारी ........


….. श्रीप्रकाश डिमरी १ मार्च २०१५

1 comment:

Kavita Rawat said...

हर हाल में खुश रहना होता है औरत को
बहुत सही